ट्रेंडिंगमनोरंजन

20 साल में आंखों से पूरी तरह ओझल हो जाएंगे तारे

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि प्रकाश प्रदूषण के कारण इंसानों की रात के आकाश में ब्रह्मांड को देखने की क्षमता सिर्फ 20 साल में खत्म हो सकती है. ब्रिटिश खगोलशास्त्री शाही मार्टिन रीस ने कहा कि रात का आकाश हमारे पर्यावरण का हिस्सा है, अगर अगली पीढ़ी इसे कभी नहीं देख पाए तो यह एक बड़ी हानि होगी.

मिल्की वे अब लोगों को नहीं दिखता

2016 में खगोलविदों ने बताया था कि मिल्की वे एक तिहाई मानवता को दिखाई नहीं दे रहा था और तब से प्रकाश प्रदूषण काफी बिगड़ गया है. क्रिस्टोफर कबा के अनुसार रात के आकाश में चमकते मिल्की वे के देखना अब दुर्लभ हो गया है. कुछ पीढ़ियों पहले लोग नियमित रूप से यह देख पाते थे. यानि जो पहले सार्वभौमिक था वह अब अत्यंत दुर्लभ है.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button