ट्रेंडिंगमनोरंजन

देश में हर साल दस लाख यूनिट रक्त का संकट

रक्त की हर बूंद में जीवन बसा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बार विश्व रक्तदाता दिवस की थीम खून दो, प्लाज्मा दो, जीवन साझा करो रखी है. भारत में मांग की तुलना में हर साल औसतन दस लाख यूनिट रक्त का संकट रहता है.

अमेरिकन रेड क्रॉस के अनुसार लाल रक्त कोशिकाएं रक्त का एक प्रमुख भाग है जो बोन मैरो में बनता हैं. खून की दो से तीन बूंद में 100 करोड़ लाल रक्त कोशिकाएं होती हैं जो खून को लाल रंग देने के साथ मानव जीवन का मुख्य स्त्रत्तेत होती हैं. चक्र पूरा करने के बाद शरीर में इनका निर्माण नियमित होता है.

33 रक्तदाता महिलाएं

डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनियाभर में होने वाले रक्तदान में से 33रक्तदान महिलाएं करती हैं. रक्तदान संबंधी जानकारी देने वाले दुनिया के113 देशों में से 15 देशों में महिला रक्तदाताओं की संख्या महज 10 है. दुनिया के 128 देशों में रक्त के इस्तेमाल के लिए राष्ट्रीय स्तर पर दिशा-निर्देश हैं. इसमें 32 अफ्रीकी, 23 अमेरिकी, 33 यूरोपीय और दक्षिण पूर्व एशिया के नौ देश हैं.

रिश्तेदारों पर निर्भरता

संपन्न देशों में प्रति हजार की आबादी पर रक्तदान की दर 31 है. मध्यम आय वाले देशों में16, कम मध्यम आय के देशों में 6 और कम आय वाले देशों में ये दर 5 है. वर्ष 2008 से 2018 के बीच 1.07 करोड़ स्वैच्छिक रक्तदाता बढ़े हैं. 79 देश 90रक्त स्वैच्छिक रक्तदाताओं से ले सकते हैं. वहीं 54 देश जरूरत का 50 रक्त मरीज के रिश्तेदारों से लेते हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बार रक्तदाता दिवस की थीम ‘खून दो, प्लाज्मा दो, जीवन साझा करो’ रखी है

सालाना दस लाख यूनिट का संकट

अमेरिका के नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉरमेशन (एनसीबीआई) द्वारा वर्ष 2022 में किए गए शोध के अनुसार भारत में हर साल 1.46 करोड़ यूनिट रक्त की जरूरत होती है. मांग की तुलना में हर साल औसतन दस लाख यूनिट रक्त का संकट रहता है. डब्ल्यूएचओ का मानक है कि देश की एक फीसदी आबादी नियमित रक्तदान करे तो रक्त की जरूरत को आसानी से पूरा किया जा सकता है. इसके बावजूद ऐसा होता नहीं दिख रहा है.

अमीर देशों के लोग रक्तदान में आगे

डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनियाभर में सालाना 11850 करोड़ यूनिट रक्तदान होता है. इसमें से 40 फीसदी रक्त उच्च आय वाले देशों में दान होता है. इन 40 फीसदी देशों में दुनिया की 16 फीसदी आबादी रहती है. कम आय वाले देशों में 54 फीसदी ब्लड ट्रांसफ्यूजन पांच साल से कम उम्र के बच्चों में होता है. वहीं अमीर देशों में सबसे ज्यादा रक्त 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को चढ़ाया जाता है. यहां बुजुर्ग लोगों में ब्लड ट्रांसफ्यूजन की दर सबसे अधिक 70 फीसदी है.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button