छत्तीसगढ़

केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण की पहली तिमाही रैंकिंग में बिजली उत्पादन में छत्तीसगढ़ देश में पहले स्थान पर

Raipur News छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी (सीएसपीडीसीएल) सर्वश्रेष्ठ विद्युत उत्पादन मामले में देशभर में पहले पायदान पर पहुंच चुका है। केंद्र सरकार के उपक्रम केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण नईदिल्ली ने विभिन्न प्रदेशों के 33 स्टेट सेक्टर में सीएसपीडीसीएल को बेहतर परफार्मेंस के लिए पहली तिमाही में पहली रैंकिंग दी है। जनरेशन कंपनी की क्षमता 2840 मेगावाट है, जिसमें 85.71 प्रतिशत प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ) के साथ यह स्थान हासिल किया है। पीएलएफ का आशय है जितनी क्षमता है, उसका कितना प्रतिशत विद्युत उत्पादन किया गया।

छत्तीसगढ़ ने पहली बार देश में सर्वाधिक क्षमता से विद्युत उत्पादन का यह कीर्तिमान बनाया है। केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण हर तीन महीने में यह रैंकिंग जारी करता है। देशभर के 33 स्टेट सेक्टर में औसत पीएलएफ 66.97 प्रतिशत है, जबकि छत्तीसगढ़ के संयंत्रों ने 85.71 प्रतिशत विद्युत उत्पादन किया। पूरे देश में सभी थर्मल पावर प्लांटों का औसत पीएलएफ 70.02 प्रतिशत रहा। सभी संयंत्रों से अधिक उत्पादन छत्तीसगढ़ के संयंत्रों में हुआ। इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा ऊर्जा एवं वित्त विभाग के सचिव अंकित आनंद ने सभी अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई व शुभकामनाएं दी हैं।

निर्बाध बिजली आपूर्ति जारी रही

वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक संजीव कुमार कटियार ने बताया कि यह पहली तिमाही अप्रैल-मई-जून के उत्पादन के आधार पर रैंकिंग हासिल की गई है। इस दौरान प्रदेश में भीषण गर्मी की स्थिति थी। सभी राज्यों में बिजली की बहुत अधिक मांग थी। छत्तीसगढ़ में 18 अप्रैल को बिजली की मांग 5878 मेगावाट तक पहुंच गई थी। ऐसी परिस्थिति में जनरेशन कंपनी के संयंत्रों ने लगातार बिना रूके कार्य किया और प्रदेश में बिना पावर कट के निर्बाध विद्युत आपूर्ति जारी रखी। उन्होंने कहा कि वितरण कंपनी के सभी संयंत्रों ने तमाम चुनौतियों के बावजूद बेहतर प्रदर्शन किया है।

162 दिन लगातार बिजली उत्पादन का रिकार्ड

इस वर्ष हसदेव ताप विद्युत संयंत्र कोरबा पश्चिम, डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ताप विद्युत संयंत्र (डीएसपीएम) कोरबा पूर्व तथा अटल बिहारी वाजपेयी ताप विद्युत संयंत्र मड़वा ने बेहतर उत्पादन किया। 1984 में स्थापित हसदेव ताप विद्युत संयंत्र कोरबा पश्चिम के यूनिट क्रमांक-चार ने 162 दिन 12 घंटे बिना थमे विद्युत उत्पादन का रिकार्ड बनाया। पहले इस यूनिट से अधिकतम 111 दिन नौ घंटे तक ही लगातार विद्युत उत्पादन हुआ था।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button